भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहकर बताता या लिखकर / शंख घोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहकर बताता
या लिखकर
या करके स्पर्श

लगता है भूल हुई मेरे समझने में,
यह तो नहीं चाहा था कहना

अन्त में सभा के जब काग़ज़ ले हाथ में जाते हैं लोग तब
लगता है, कहूँ मैं पुकारकर :
आइए, सकूँगा कह
मैं अबकी बार।

मूल बंगला से अनुवाद : अरुण माहेश्वरी