भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहाँ जाबो रे / प्रमोद सोनवानी 'पुष्प'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहाँ जाबो रे संगी,
कहाँ जाबो रे।
हमर गाँव के मांटी,
सोना उगले रे।

खेत-खार ला हमन सजाबो,
रुक-राई चल सबो लगाबो।
जुर-मिल संगी ऐ भूईयाँ ला,
हरा-भरा अब हमन बनाबो।

नवां राज के नवां बिहिनियाँ।
अब होगे रे।

गाँव-गाँव पंचायती राज हे,
काम-बुता अब मिलगे।
झन जाबे तें धुरिहा रे संगी,
भाग हमर संवर गे।

नई होये अन्याय हमर संग।
तें चिंता झन करबे रे।