भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

कहाँ है उसका कूचा, कौन है वो?.. / शाद अज़ीमाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहाँ है उसका कूचा, कौन है वह? क्या खबर क़ासिद!
पर इतना जानते हैं, नाम है आशिक़नवाज़ उसका॥

न छोडे़ जुस्तजूये-यार ख़िज्रे-शौक से कह दो।
किसी दिन खुद लगा लेगी, पता उम्रेदराज़ उसका॥

अबस[1] शिकवा है मय-सी चीज़ का, वाइज़ है क्यों दुश्मन।
बसीरत[2] जब नहीं, बेशक बजा है अहतराज़ उसका॥

अब इसका ज़िक्र क्या क़ासिद पै जो गुज़री गुज़रने दो।
न कहना इस ख़बर को ‘शाद’ से दिल है गुदाज़[3] उसका॥

शब्दार्थ
  1. व्यर्थ
  2. दृष्टि
  3. द्रवित