भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहाँ / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रातें खालीपन में प्रवेश करने के लिए होती हैं
मेरी देह
जैसे एक खुला दरवाज़ा
इसके लिए

मेरे पास तुम्हें बताने के लिए कुछ बातें हैं
मैं एक गहरा कुआँ
जब देखती हूँ तुम्हारी तरफ

एक के बाद एक अग्निशिखाएँ
जब मैं दूर करती हूँ
तुम्हें अपने ज़ेहन से

पृथ्वी ऐसी ही है
लोगों के मुँह में
शब्द हैं
शब्दों के भीतर
अकेलापन है

मैं एक ठण्डा स्वप्न हूँ
यदि मैं खुद को अलग कर लूँ इस दुनिया से
— यदि अलग कर भी लूँ —
तो इसे रखूँगी कहाँ ?