भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहाणी नानीअ जी / मीरा हिंगोराणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात जो हजं सुम्हारे नानी,
केॾी मिट्ठड़ी बुघाए कहाणी।

हो हिकु राजा एंे हिक राणी,
अची वई ॿारनि खो निंॾ,
छाजो राजा, छाजी राणी।

सुबुह-सवेर रखी हुई ॿारनि,
फ्कति याद हीअ कहाणी,
हो हिकु राजा, ऐं हिक राणी।

उभ में चंड सां सुहंदी रात,
ईदीं तारनि जी बारात,
थींदी शुरुपोई नई कहाणी।
ॿुघाईंदी नई कहाणी नानी!!