भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहीं भीजत होइहैं भगवान / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कहीं भीजत होइहैं भगवान, प्रेम-रस बुन्दिया मे
कहमा से उठलै रामा कारी रे बदरबा, कहमा बरसि गेल मेघ
अयोध्या से उठलै रामा कारी रे बदरबा, मिथिला बरसल मेघ
कहीं भीजत...
किनका के भीजइ रामा, लाली रे चदरिया
किनका के भीजनि पटोर, प्रेम-रस बुन्दिया मे
कहीं भीजत...
राम जी के भीजइ रामा, लाली रे चदरिया
सीया जी के भीजनि पटोर, प्रेम रस बुन्दिया मे
कहीं भीजत होइहैं भगवान, प्रेम-रस बुन्दिया मे