भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहीं से बोलता कोई नहीं है / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहीं से बोलता कोई नहीं है
तो बस्ती में भी क्या कोई नहीं है

मिरा जी तुझ से भी भरने लगा है
अगरचे दूसरा कोई नहीं है

कई सदियों की दूरी दरमियाँ है
बज़ाहिर फ़ासला कोई नहीं है

मैं सहरा में सदाएँ दे रहा हूँ
मिरा भी हमनवा कोई नहीं है

क़ुतुब ख़ानों में अब रख दो हमें भी
हमें भी देखता कोई नहीं है

सभी के दम घुटे जाते हैं लेकिन
खिड़कियाँ खोलता कोई नहीं है