भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कह दो मुझे / पाब्लो नेरूदा / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कह दो मुझे, क्या गुलाब नग्न है
या फिर, वही उसका लिबास है ?

दरख़्त क्यों छिपाते रहते हैं
अपनी जड़ों की शान ?

किसको सुनाई देता है
अपराधी गाड़ियों का अफ़सोस ?

इससे दुखद क्या हो सकता है
जब कोई ट्रेन बारिश में खड़ी होती है ?

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य