भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क़ैदी के पत्र - 4 / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुनता हूँ इस्तम्बूल की व्यथा शब्दों के परे है,
सुनता हू~म भुखमरी अनेक ज़िन्दगियों की फ़स्ल काट रही,
सुनता हूँ क्षयरोग चारों ओर फैला है।

सुनता हूँ छोटी दुधमुँही लड़कियाँ
एकान्त गलियों में, सिनेमा घरों में जा बैठ रहीं !
दूर मेरे नगर से बुरी-बुरी ख़बरें चली आ रहीं —
मेरे नगर में जहाँ ईमानदार, मेहनती, ग़रीब जन रहते हैं —
वे ही हैं इस्तम्बूल।

प्रिये, इस नगर में ही रहती हो,
यह नगर
अपनी पीठ पर मैं सदा ढोता हूँ, गठरी में बाँध लिए चलता हूँ,
जहाँ-जहाँ निर्वासित किया जाता, जहाँ-जहाँ कारा में रखा जाता
उसे अपने दिल में, मैं बच्चे की मौत के
तीखे दर्द-सा लिया फिरता हूँ।
यह नगर
आँखों में तुम्हारे रूप की तरह तिरता ही रहता है।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : चन्द्रबली सिंह