भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क़ैदी के पत्र - 5 / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लो यह नौ बजा
चौक का घड़ियाल ठनका
जेल-कोठरी का द्वार किसी क्षण बन्द होगा
इस बार जेल में रहना हुआ है ज़रा ज़्यादा दिन का।
आठ साल हुए —
जीना उम्मीद का काम है, प्रिये,
जीना गम्भीर है तुम्हें प्यार करने-सा
सुन्दर है, आशाप्रद
तुम्हें मन में बसाना
लेकिन अब मेरा जी इसमें नहीं भरता
नहीं चाहता कि गाना सुनता ही रहूँ
अब मैं चाहता हूँ ख़ुद का गीत गाना !

अँग्रेज़ी से अनुवाद : चन्द्रबली सिंह