भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कामकाजी औरत की आँख में / विवेक चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टूटते खपरैल से झाँकता है नीला आसमान
वहाँ से धागा निकाल बुन रही है औरत एक कालीन
आँगन में बिछी है लाल मुरम
उससे लाल बटन बनाकर
औरत टाँक रही है बच्चे के अँगरखे में
दरकती दीवारों पर ऊग रहा है जो
पीपल का पौधा
उधर से हरा रंग खींच चढ़ा रही है औरत
लिफाफे के कागज पर
समय का चक्र सबसे
तेज गति से घूम रहा है औरत की सिलाई मशीन में
और आज का सबसे सुंदर और सजीला सपना
दिख रहा है इस कामकाजी
औरत की आँख में।