भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कामधेनु / रतन सिंह ढिल्लों

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ !
इंद्र के दरबार से
कामधेनु खोल लाएँ
और उसे बाँध दें
गाँव की चौपाल में
या शहर के स्लम-क्षेत्र में
या
शहर के लेबर कॉलोनी में ।

आओ !
कामधेनु गाय को
सुनहरे खूँटे से खोल कर
आज़ाद कर दें ।

 
मूल पंजाबी से अनुवाद : अर्जुन निराला