भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काम आसाँ हो तो दुश्वार बना लेता हूँ / शाज़ तमकनत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काम आसाँ हो तो दुश्वार बना लेता हूँ
राह चलता हूँ दीवार बना लेता हूँ

जादा-ए-शौक को वीराँ नहीं होने देता
रोज़ नक़्श-ए-क़दम-ए-यार बना लेता हूँ

यूँ के लहजा से नुमाया न हो हसरत कोई
एक पैराया-ए-इज़हार बना लेता हूँ

वही तस्वीर जिसे मैं ने बनाया सौ बार
वही तस्वीर फिर इक बार बना लेता हूँ

ऐ ख़ुशी ग़म की कसौटी पे परख लूँ तुझ को
ऐ वफ़ा आ तुझे मेयार बना लेता हूँ

हाए वो लोग जिन्हें गिनता था बे-गानों में
आज मिलते हैं ग़म-ख़्वार बना लेता हूँ

‘शाज़’ गर्दिश-गह-ए-अफ़्लाक-ए-तमन्ना मत पूछ
नौ-ब-नौ साबित-ओ-सय्यार बना लेता हूँ