भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कारवां सराय / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओह यह धरती की प्रजाति
ढोल बजाए गए , दरवाज़े बन्द थे
कारवाँ सराय में

एक मोमबत्ती, ब्रेड का एक टुकड़ा, सूप की एक डिश
और जई की एक बोरी घोड़े के लिए

दरख़्तों की परछांईयों वाले आँगन में
पूरे तीन दिन

फिर एक कारवाँ तीन हज़ार ऊँटों का...

दीवार पर एक कुल्हाड़ा, युद्ध वाला कुल्हाड़ा
फ़ायरप्लेस की वजह से शरीर गर्म हैं

और चन्द्रमा बढ़ रहा है मानो निश्चित कर रहा है
एक नया दिवसकाल ।