भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कारे कारे तम कैसे पीतम सुधारे विधि / केशव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कारे कारे तम कैसे पीतम सुधारे विधि,
वारि वारि डारे गिरि थान सुत नाषे हैं।
घंटा ठननात घननात घुंघरनि भौंर
भननात भुवपाल अभिलाषे हैं।
थोड़े-थोड़े मदन-कपोल अति थूले-थूले
डोलें चलदल बल बिक्रम सुभाषे हैं।
दारिद दुवन दीह दलनि बिदारिबे को,
इंद्रजीत हाथी यों हथ्यार करि राषे हैं।