भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कारोॅ बादल ढलमल छै / नन्दलाल यादव 'सारस्वत'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कारोॅ बादल ढलमल छै
वै पर नदियोॅ खलखल छै।

पर्वत सबटा चूर लगै
बंजर नाँखि जंगल छै।

खनकै छै खाली तलवारे
डरलोॅ-डरलोॅ पायल छै।

केकरा कौनें देतै ढाढ़स
सबके आँख तेॅ छलछल छै।

ई युग मेॅ आबी केॅ आबेॅ
फूल लगै कि पत्थल छै।

दुख केकरोॅ लेॅ काँटोॅ नाँखि
सारस्वत लेॅ मलमल छै।