भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काला डोरिया कुंडे नाल अडया ओये / पंजाबी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

काला डोरिया कुंडे नाल अडया इ ओये
के छोटा देवरा भाभी नाल लड़या इ ओये

छन्ना चूरी दा ना मक्खन आँदा इ
लै जा भत्ता ऐ मेरा पौला खाँदा इ

छोटे देवरा तेरी दूर बलाई वे
के न लड़ सोणया तेरी इक भरजाई वे

कुकडी ओ लैणी जेड़ी आंडे देंदी ए
सौरे नहीं जाणा सस्स ताने देंदी ए

कुकडी ओ लैणी जेड़ी कुड-कुड़ करदी ए
सौरे नहीं जाणा सस्स बुड़-बुड़ करदी ए

सुथना छीट दियाँ मुल्तनों आईयाँ ने
माँवाँ आप्नियाँ जिन्हा रीझाँ लाईयाँ ने

सुथना छीट दियाँ मुल्तानों आईयाँ ने
सस्सा बगाणीआं जिन्हा गलों लवाईयाँ ने

काला डोरिया कुंडे नाल अडया इ ओये,
के छोटा देवरा भाभी नाल लड़या इ ओये