भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काले आकाश में / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काले आकाश में खुदे पड़े हैं शब्द
कि चकमका जाती हैं ख़ूबसूरत आँखें...
डर नहीं हमें मृत्यु-शैय्या का,
न ही प्रणय-शैय्या का मोह ।

ख़ून-पसीना एक करते, ओ लेखक, ओ किसान,
हमें ज्ञात है वह उफ़नती हुई ऊर्जा-
एक हल्की-सी आग नाचती हुई घुंघराले बालों पर
जैसे एक झोंका
अन्त:प्रेरणा का ।

रचनाकाल : 14 मई 1918

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह