भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काल्पनिक आँकड़े / शुन्तारो तानीकावा / अशोक पाण्डे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टूटी शाखें : छियासी लाख बासठ हज़ार तीन
घायल तितलियाँ : पाँच लाख तेरह हज़ार चार सौ इक्कीस
पैदाइशी जीनियस : माइनस तीन
जुड़े हुए आँसू : उनहत्तर हज़ार पाँच सौ पन्द्रह
बहे हुए आँसू : पाँच अरब आठ करोड़ क्यूबिक मीटर
पवित्र मासूम पुरुष : शून्य
छींकें : गिनी नहीं जा सकतीं
धुन्धले इन्द्रधनुष : उतने जितने पुरुषों का विवाह हो गया
टूटे नगाड़े : चार
रूमानी प्यार : साढ़े आठ
अफ़सोस करने लायक स्थितियाँ : अनन्त
मैं : बस एक

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अशोक पाण्डे