भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काशी गो छोरौ / राजेन्द्र देथा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काशी गो छोरौ
आवै स्यैर स्यूं गांव
चंद्रयान परछेपण आले दिन
काशी उण री ऊडीक मांय
टेशण माथै बैठ्यौ फूंकै
बीड़ी माथै बीड़ी लारला दो घंटां ऊं

छोरौ आंवतौ इ पगां लाग'र
बतावै बापू नै-
"बापू आज आपणै देस
चांद माथै राकेट भेजण री खेचल करी है"

काशी इण बात नै
पांचवी बीड़ी सागै उडाय'र केवै-
"दरडे़'म जावै चांद अर दूजै'म देस
तू तो ओ बता नै'र मांय पाणी कद आसी?

"कीं पतौ?