भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काश की भाग सकती मैं / वेरा पावलोवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काश की भाग सकती मैं
तुम्हारे साथ साझा करने के लिए
छत और रास्ता ।

इससे ज़्यादा आसान है
मोड़ना आकाशगंगा को,
इन्द्रधनुष को सीधा करना,
समाप्त करना चेचेन-युद्ध को,
और गीतों से पेट भरना
भूखे मर रहे बच्चों का ।

क्या बन्द कर दूँ तुम्हें प्रेम करना ?
काश कर सकती मैं ऐसा !

इससे तो आसान है
एक घर बनाना लहरों पर...

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल