भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काश मैं जानता / बरीस पास्तेरनाक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काश मैं जानता ऐसा ही होता है
जब मैंने लिखना शुरू किया था
कि खून सनी पंक्तियाँ मार डालती हैं
गर्दनियाँ देकर।

सच्‍चाई के साथ मजाक करते हुए इस तरह
मैंने इनकार किया होता साफ-साफ।
आरंभ तो अभी दूर था
और पहला शौक इतना भीरूतापूर्ण।

पर बुढ़ापा होता है एक तरह का रोग
जो आडम्‍बरों से भरे अभिनय के बदले
अभिनेता से संवाद की नहीं
मृत्‍यु की माँग करता है गंभीरता से।

जब पंक्तियों को लिखवाती हैं कविताएँ
मंच पर भेज देती हैं गुलाम को,
और यहाँ समाप्‍त हो जाती है कला
और सांस लेती है मिट्टी और नियति।