भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काहें मन करेल गुमान हो / रामपति रसिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रामपति रसिया का यह गीत अधूरा है, आपके पास हो तो इसे पूरा कर दें

काहें मन करेल गुमान हो, बिहान देखि पइब की नाहीं
सपना समान बा जहान के बजरिया
सम्भरि के धर पांव देखि के डगरिया
नाही बाटे कवनो ठेकान हो, बिहान देखि पइब की नाहीं