भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काहे करी सगाई बाबा / राजेन्द्र स्वर्णकार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमसे कौन लड़ाई बाबा ?
हो अब तो सुनवाई बाबा !

सबकी सुनता, हमरी अब तक
बारी क्यों न आई बाबा ?

हमसे नाइंसाफ़ी करते '
तनिक रहम न खाई बाबा ?

इक बारी में कान न ढेरे
कितनी बार बताई बाबा ?

बार-बार का बोलें ? सुसरी
हमसे हो न ढिठाई बाबा !

नहीं अनाड़ी तुम कोई; हम
तुमको का समझाई बाबा ?

दु:ख से हमरा कौन मेल था,
काहे करी सगाई बाबा ?

बिन बेंतन ही सुसरी हमरी
पग-पग होय ठुकाई बाबा !

तीन छोकरा, इक घरवाली,
है इक हमरी माई-बाबा !

पर… इनकी खातिर भी हमरी
कौड़ी नहीं कमाई बाबा !

बिना मजूरी गाड़ी घर की
कैसन बता चलाई बाबा ?

हमरा कौनो और न जग में
हम सबका अजमाई बाबा !

न हमरा अपना भैया है,
न जोरू का भाई, बाबा !

और मुई दुनिया आगे हम
हाथ नहीं फैलाई बाबा !

जानके भी अनजान बने, है
इसमें तो'र बड़ाई बाबा ?

नींद में हो का बहरे हो ? हम
कितना ढोल बजाई बाबा ?

हम भी ज़िद का पूरा पक्का
गरदन इहां कटाई बाबा !

तुम्हरी चौखट छोड़' न दूजी
चौखट हम भी जाई बाबा !

कहदे, हमरी कब तक होगी
यूं ही हाड-पिंजाई बाबा ?

बोल ! बता, राजेन्द्र में का है
ऐसन बुरी बुराई बाबा