भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किताब / गायत्रीबाला पंडा / शंकरलाल पुरोहित

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक किताब की तरह
स्वयं को खोले और बंद करे
पुरुष की मर्जी पर।

एक किताब की तरह
उसके हर पन्ने पर
आँखें तैराता पुरुष
जहाँ मन वहाँ रुकता
तन्न तन्न कर पढ़ता।

विभोर और क्लांत हो, तो हटा देता
एक कोने में। खर्राटे भरता
तृप्ति में।