भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किनारें बदल गए / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जि़न्दगी की आपाधापी में
कहीं बहुत पीछे छोड़ आया हूँ मैं अपना दिल
साथ छूट गए वह सारे अहसास
जिन्हें कभी दिल से लगा रखा था
वो अहसास जो कभी मेरी पहचान बनकर
मेरे साथ चला करते थे

उन अहसासों के साथ धीरे धीरे
बिछड़ते गए
मुझसे मेरे उसूल
कुछ उसूलों को मैंने छोड़ा
तो कुछ मुझे ख़ुद-ब-ख़ुद छोड़ गए
समय के कँटीले बहाव में
बह गए मेरे लक्ष्य, मेरे वह गर्मजोश इरादे

कहने को है अब भी जि़न्दगी का सफ़र निरंतर
पर जीने के इरादे बदल गए
बदल गए सारे पहलू, वह वादे बदल गए
निकले थे जि़ंदगी की कश्ती लेकर
बहते दरिया में
मगर गौर से देखें तो अब किनारे बदल गए।