भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किनारे पर / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भूल तो नहीं गया मैं रचना
कुछ इस तरह जैसे सपने से जगा
और भूल गया सपना
नहीं पर ऐसा नहीं हुआ था
हुआ था वैसा ही
जैसा तैरना सीख जाने के बाद
ना तैरो बरसो बेशक
पर पानी में फेंको तो
चलने लगते हैं हाथ पाँव
पा ही जाती हैं देह किनारा
ठीक ऐसे ही
पहुँच गया
ना जाने कैसे
पास तुम्हारे