भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किरचें / पावलोवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने तोड़ दिया तुम्हारा हृदय
अब चलना है मुझे
(जीवन भर )
काँच के टुकड़ों पर ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सिद्धेश्वर सिंह