भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किरण / एल्युआर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह आई थी
उस ढलान पर चढ़ती
जो काटता था हमारी गली को

मस्त है
हलकी है
और उतनी ही साफ है वह
जितना बिन बदली आकाश

परिपूर्ण प्रुनेल1
तब तक के लिए
जब तक रात की रानी
दिन को
उल्लुओं के हवाले नहीं करती

शब्दार्थ :
1 एक प्रकार का पक्षी

मूल फ़्रांसिसी से अनुवाद : हेमन्त जोशी