भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किले में कैद / सुदर्शन वशिष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहले राजा करते थे
अब
आदमी ने कर ली है किलेबंदी।

रहता है वह अपने किले के भीतर
भारी द्वार बन्द कर
न भीतर आता है कोई
न बाहर जाता है
इज़ाज़त बिना।

दिमाग के तहक़ःआने में भरी हैं
विरोधियों की ज़िन्दा लाशें
मन के कूँएं में मनमुटाव
तमाम तनाव

कहीं खाई खंदक में
धारणाओं के ज़ंग लगे हथियार।

यह सही है कि
हमलों से बचाव के लिए
अच्छी है किलेबन्दी।

उसूलों की किलेबन्दी खतरनाक नहीं है
न ही मान्यताओं की
धर्म की भी घातक नहीं उतनी
न ही वर्ग समुदाय की।

सब से खतरनाक है
विचारों की किलेबंदी।