भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किशोर कल्पनाकांत / परिचय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किशोर कल्पनाकांत
जन्म: 04 अगस्त 1930 
निधन: 06 फरवरी 2001
कृतियां-मानखो हेला मारै, कूख पड़यै री पीड़,,दैखै जिसी चितारै,मरवण तार बजा,(कविता संग्रह) गीतां रो बावळीयो, भूत-प्रभूत,(मौलिक कहानी संग्रह) लोढ़ी मोडी मथरी,बनड़ा रो सौदागर(श्याम गोइन्का, व्यंग्य सग्रह का अनुवाद)नष्टनीड़(अनुदित उपन्यास)सेक्सपियर री बातां(बाल कथाकरण) विस्वनाथ सत्यनारायण री बातां(अनुदित कहानी संग्रह) कूंपळ अर फूल(संपादित कविता संग्रह) किशोर-गीता,कुण कै है बो, सोक्याँ माँय एकलो बोई,ब्राहमण बिना राष्ट्र सुनसान,(गीतान्तरण)आदि अनेक पुस्तकें प्रकाशित ।
कूख पड़यै री पीड़ के लिए साहित्य अकादेमी पुरस्कार । तीस वर्षों तक राजस्थानी पाक्षिक पत्रिका "ओळमो" का संपादन-प्रकाशन । अनुवाद कार्य में भी जबरदस्त काम किया वेदवेदांत का गीतान्तरण कर राजस्थानी भाषा की क्षमता और सामर्थ्य को प्रमाणित करने वाले काव्ययोगी ।
वर्ष 2007 से उनकी स्मृति में कमला गोइन्का फाउन्डेशन द्वारा 'किशोर कल्पनाकांत राजस्थानी युवा साहित्यकार पुरस्कार` स्थापित ।
साहित्य अकादेमी द्वारा 'भारतीय साहित्य के निर्माता' सीरीज़ के अन्तर्गत किशोर कल्पनाकांत के बारे में पुस्तक प्रकाशित ।