भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किसका काँधा ! / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1
चुपके से ही
बिन कुछ कहे ही
सैनिक रोया
माँ को याद करके
वह माटी का पूत।
2
उनींदी आँखें
सैनिक-प्रेयसी की
जगती सदा
प्रेम-भरे दिनों की
अपलक प्रतीक्षा।
3
किसका काँधा
अश्रुओं से भिगोए
सैनिक-प्रिया
हुआ अभी-अभी ही
जिसका गर्भपात।
4
सीमा पर है
उस माँ का बेटा तो
जिसका घर
आपदा में बहा है
अब है बेसहारा ।
5
चूड़ियाँ रोईं
अब विरहन की
जिसका पिया
सीमा पर था तैनात
शहीद कहलाया।
6
सुमन रोता
नेताओं की रैली में
सुबक कहे-
सैनिक की प्रिया के
काश! केशों में सजूँ ।
7
आशा-संघर्ष
कुकुरमुत्ता बन
है मुस्कुराता
सड़े- गले जग में
जिजीविषा सिखाता ।

-0-