भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किसने देखा है हवा को? / क्रिस्टीना रोजेटी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौन हुआ है हवा से रूबरू?
बोलो, कौन हुआ है हवा से रू-बरू?
न मैं और न तुम,
मगर जैसे ही पत्तियों की होती है सरसराहट,
होने लगती है गुजरती हवा की आहट

किसने देखा है हवा को?
न तुमने न मैंने,
मगर जब पेड़ हो जाते नतमस्तक,
बस, बहती ही रहती है हवा!

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : सोनाली मिश्र