भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किसी और हृदय में / सविता सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं गई तो थी उस रोज़
तुम्हारे भीतर
तुम टहल रहे थे
और तुमसे लिपटती हुई थी हवा

मैं खड़ी देखती रही
तुम्हारी सिहरती निर्वस्त्रा देह

मैं प्रतीक्षा करती रही
तुम्हारे संभलने और लौटने की
एक और सुख की तरफ़
तुम पीले पड़ गए थे
और बस गिरने ही वाले थे

मैं तब भी खड़ी रही
थामने के लिए तुम्हें
लेकिन मैंने देखा
तभी आया तुम्हारा क्रीतदास
तुमसे भी अधिक पीला
और समा गया तुम में

तुम्हारा पौरुष कितना संभला हुआ था
मैंने जाना
ख़ुद को फिर संभालती हुई
किसी तरह आई बाहर

यहाँ भी वैसा ही दृश्य था पसरा हुआ
जिससे निकल कर जा रही थीं
दूसरी स्त्रियाँ मेरी तरह ही
किसी और दृश्य में