भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किसी का नक़्श अँधेरे में जब उभर आया / प्रकाश फ़िकरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी का नक़्श अँधेरे में जब उभर आया
उदास चेहरा शब-ए-दर्द का निखर आया

खुले किवाड़ों के पीछे छुपा था सन्नाटा
सफर से हारा मुसाफिर जब अपने घर आया

जवाज़ ढूँडे वो अपने शिकस्ता-ख़्वाबों का
मैं उस की आँखों से ऐसे सवाल कर आया

वो अक्स अक्स ख़यालों का आईना निकला
मुझे वो शख़्स उजाले में जब नज़र आया

उखड़ती साँसों में क्या था बताऊँ क्या ‘फिक्री’
यही समझ लो के क़िस्सा तमाम कर आया