भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किसी दिन कोई बरस / विवेक चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी दिन कोई बरस बरसती किसी रात में
तुम खटखटाओगी द्वार एक आकुल वेग से
जैसे कोई खटखटाता हो अपने ही घर का द्वार।
द्वार मैं खोलूँगा और एक निशब्द
विस्मय भर लेगा तुमको, बुला लेगा
उस रात मैं ढूढँूगा तह कर रखे गए कुर्ते और
बिना उनके बड़े-छोटे की बात हुए तुम पहन लोगी उन्हें।
उबालूँगा दाल-चावल तुम्हे खिलाऊँगा
दोनों नहीं पूछेंगे देर रात तक कुछ भी
एक निशब्द समय की गोद में बैठे रहेंगे
बीच में जली होगी आग
फिर तुम्हें सुलाऊँगा मूँज की खाट में
और अपने घुटनों में रखे सिर रातभर तुम्हें सोता हुआ देखूँगा
एक ऐसा दिन यकीनन मेरी डायरी में दर्ज है।