भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किसी ने भी छीना नहीं / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी ने भी कुछ नहीं छीना मेरे हाथों से-
अच्छा लगता है मुझे हमारा अलग-अलग रहना ।
चूमती हूँ मैं तुम्हें
इस सौ-सौ मील दूर के फ़ासले से ।

जानती हूँ बराबर नहीं है हमारी प्रतिभा,
पहली बार आज चुप है मेरी आवाज़ ।
क्या महत्त्व तुम्हारे लिए, ओ युवा देर्झाविन,
मेरी इन गँवार कविताओं का !

दुआ मांगती हूँ तुम्हारी इन डरावनी उड़ान के लिए
उड़ान भरो, ओ मेरे युवा बाज !
चौंधियाईं नहीं तुम्हारी आँखें सूर्य के आगे,
चौंधिया जाएंगी क्या वे मेरी युवा नज़र के सामने !

इतनी अधिक कोमलता, इतनी अधिक ख़ामोशी से
किसी ने भी नहीं देखा तुम्हें पीछे से...
चूमती हूँ तुम्हें
इस सौ-सौ वर्ष दूर के फ़ासले से ।

देर्झाविन, गव्रील रमानोविच (1743-1816), प्रख्यात रूसी कवि

रचनाकाल : 12 फ़रवरी 1916

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह