भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किस्मत तेरी फूटी / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

‘कंप्यूटर-ज्योतिषी’ बना बैठा जब बंदर देखा,
लगा पूछने शेर- ‘बता मेरी किस्मत का लेखा!’
बटन दबाया बंदर ने तो आई पर्ची बाहर-
‘दुर्बल जीवों को न सता तू, दया-भाव रख नाहर!
कभी न होगी कंप्यूटर की भविष्यवाणी झूठी,
शाकाहारी बन जा, वरना किस्मत तेरी फूटी’!

[रचना : 21 दिसंबर 1995]