भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ तेॅ बस भगवान लगै छै / नन्दलाल यादव 'सारस्वत'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ तेॅ बस भगवान लगै छै
बाकी सब जजमान लगै छै।

केकरा सेॅ अपनौती जोड़ौं
अनचिन्हार पहचान लगै छै।

केकरो जान सुरक्षित नै छै
गाँव-शहर शैतान लगै छै।

दीवानोॅ के हाल बुरा छै
चपरासी दीवान लगै छ।

पाप खरीदै लेॅ चाहै छोॅ
सौ पुण्योॅ के दान लगै छै।

सारस्वतोॅ लेॅ कुछ नै भारी
हर गारी वरदान लगै छै।