भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ दिन मेरी आँखों में ये तूफ़ान रहेगा / 'महताब' हैदर नक़वी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ दिन मेरी आँखोँ मेंये तूफ़ान रहेगा
फिर शहर रहेगा न बियाबान रहेगा

ये बूँद लहू की यूँ ही हंगामा करेगी
आबाद यूँ ही खाना-ए-वीरान रहेगा

कब ग़ुन्चा-ए-उम्मीद1 खिलाये से खिला है
ये ख्वाब-ए-परेशान, परेशान रहेगा

अब वो भी बिछड़ता है, बिछड़ जाये, बला से
कुछ नफ़अ2 का सौदा है जो नुक़सान रहेगा

इस तख्त-ए-अल्फ़ाज़3 पे मह्ताब की सूरत
बिलक़ीस-ए-सुखन4 तेरा सुलेमान5 रहेगा

1-आशा की कली 2-लाभ 3-शब्दों का सिंघासन 4-यमन के एक नगर 4-सबा की महारानी 5- एक मशहूर पैगम्बर