भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ बात न थी / रवीन्द्र दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ बात न थी,
कुछ हुआ नहीं ।
फिर भी थे खफा, मर्ज़ी उनकी
वो कहने लगे-
अब और नहीं।

होगा न गुज़र तुम मर्दों से
हम अपनी फ़िकर ख़ुद कर लेंगे
हम स्त्री, स्त्रीवादी हैं
ख़ुद जी लेंगे , ख़ुद मर लेंगे।

हमने पूछा-
क्या मिलकर हम...

बकवास न करना आगे से
क्यों साथ तुम्हारा हम लेंगे
हम हिस्सा लेंगे संसद में...

फिर ?

अपना रास्ता आगे देखो
है बात पुरानी कुछ दिन की

मैं अपना रास्ता देख रहा
और सोच रहा
क्या क्या किस्सा है जुदा-जुदा
मैं कौन हूँ किसके हिस्से का ?
कुछ बात न थी ।