भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कुछ भी नहीं हुआ-सा लेकर लौटें हम / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ भी नहीं हुआ-सा लेकर लौटें हम।
बस, खोखली दिलासा लेकर लौटें हम।

उलझे मुद्दों पर आयोजित परिचर्चाएं,
कुछ और घना कुहासा लेकर लौटें हम।

खुली हवा और खुशबू तलाशने चले,
भीतर कड़ुआ धुआं-सा लेकर लौटें हम।

उमड़े-गरजे तो बहुत बादल, बरसे कम,
मन भीतर खाली कुआं-सा लेकर लौटें हम।

कुछ इस तरह छुआ हर पहलु आपने,
हर पहलु अनछुआ-सा लेकर लौटें हम।