भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ भी मारो, बस, आँख मत मारो / बोधिसत्व

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(मर्यादावादियों के लिए एक नया राष्ट्रगान)

गोरक्षक बन कर मारो
गोमाँस के नाम पर मारो
काश्मीर में सरकार बन कर मारो
बेरोज़गारी से मारो
बेरोज़गार की मारो
मन्दिर के नाम पर मारो
बस, आँख मत मारो।

नोट बन्द कर मारो
लाइन में लगा कर मारो
कर्ज़ से किसान मारो
बोल वचन से मारो
हँस कर और हँसा कर मारो
उल्टे सीधे फँसा कर मारो
बस, आँख मत मारो।

घेर कर मारो घूर कर मारो
कपड़ा फाड़ कर मारो
घर जलाकर मारो
बच्चा चोर कह कर मारो
बाढ़ में डुबोकर मारो
दिन-दहाड़े मारो
बस, आँख मत मारो।

मुसलमान कह कर मारो
दलित कह कर मारो
हिन्दू जैन बौद्ध कह कर मारो
छिनाल डायन कह कर मारो
भड़वा कह कर मारो
आधी रात में मारो
बस, आँख मत मारो

गद्दार कह कर मारो
स्वामी कह कर मारो
वामी कह कर मारो
जय श्रीराम कह कर मारो
बलात्कार करके मारो
तीन तलाक़ देकर मारो
बस, आँख मत मारो।

चक्रव्यूह में मारो
चीरहरण कर मारो
अहिल्या को पत्थर बना कर मारो
अँगूठा काटकर मारो
नाम गोत्र जाति पूछ कर मारो
सीवर में उतार कर
बस, आँख मत मारो।

ऊना में मारो पूना में मारो
जैसे जहाँ मन वैसे मारो
ऊपर नीचे आगे पीछे से मारो
दाएँ बाएँ चौतरफ़ा मारो
पाताल में धँसा कर मारो
अँग्रेज़ी हिन्दी तमिल में मारो
बस, आँख मत मारो।

गाँधी को छाती पर मारो
कलबुर्गी को माथे पर मारो
गौरी लंकेश को आँतों में मारो
राम को अयोध्या में मारो
महामहिम को पुरी में मारो
अग्निवेश को सड़क पर मारो
बस, आँख मत मारो।

संसद में जूता मारो
विधानसभा में लात मारो
बेटी को गर्भ में मारो
बहू को जलाकर मारो
बच्ची को मन्दिर में मारो
सत्य को झुठलाकर मारो
सब कुछ मारो
बस, आँख मत मारो।

गोली मारो बम मारो
पैलटगन मारो पत्थर मारो
पुल से दबाकर मारो
नंगों को दस लाख का वस्त्र दिखा कर मारो
कंगालों को पन्द्रह लाख की झलक देकर मारो
आतंकवादी बताकर मारो
बस, आँख मत मारो।

वन्देमातरम गाकर मारो
जन गण मन चिल्लाकर मारो
मर्यादा से मारो वादा से मारो
लक्ष्मण रेखा में घेरकर मारो
अग्नि परीक्षा लेकर मारो
रामराज्य है जल्दी मारो
बस, आँख मत मारो।