भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ सुख बचे हैं / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह क्या, भन्ते !
बोधिवृक्ष को खोज रहे तुम
महानगर में

यों यह सच है
बोधिवृक्ष की चर्चा थी कल
सभागार में
रक्त बहा है
इधर रात भर नदी-धार में

घायल पड़ा हुआ है
अंतिम-बचा कबूतर पूजाघर में

सड़क-दर-सड़क
भटक रहे तुम
लोग चकित हैं
सधे हुए जो अस्त्र-शस्त्र
वे अभिमंत्रित हैं

उस कोने में
बच्चे बैठे भूखे-प्यासे/डूबे डर में

वही तो नहीं बोधिवृक्ष
जो ठूँठ खड़ा है
उस पर ही तो
महाअसुर का नाम जड़ा है

उसके नीचे
जलसे होंगे नरमेधों के
इस पतझर में