भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ हाथ उठा के मांग न कुछ हाथ उठा के देख / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


कुछ हाथ उठाके मांग न कुछ हाथ उठाके देख।
फिर अख़्तियार ख़ातिरे-बेमुद्दआके देख॥

तज़हीको-इल्तफ़ात में[1] रहने दे इम्तयाज़[2]
यूँ मुस्करा न देख के, हाँ मुसकरा के देख॥

तू हुस्न की नज़र को समझता है बेपनाह।
अपनी निगाह को भी कभी आज़मा के देख॥

परदे तमाम उठाके न मायूसे-जलवा हो।
उठ और अपने दिल की भी चिलमन उठा के देख॥

शब्दार्थ
  1. हँसी उडाने और महरबानी में
  2. अंतर