भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कुट्टी / लीना मल्होत्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने
टाँग के नीचे से हाथ निकाल
कुट्टी की थी पक्की वाली
अब
अगर पूरा का पूरा
अँगूठा मुँह में डाल घुमा कर कहूँ
अब्बा
तो क्या पहले की तरह मिलोगे ?