भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुण देवै पडूत्तर? / किशोर कुमार निर्वाण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काटतो जावै मिनख
आज आपरी ई जड़ां नैं
उळझतो जावै
आपरै ई बुण्योड़ै जाळ मांय।
 
अबार रिस्ता-नाता
रैयग्या फगत मतलब सारू
मेळ-मुलाकात अर हेत
रैयौ ई कठै?
 
बणग्यो मिनख इब तो मसीन
भूलग्यो अपणायत
थोथी हुयगी है
सैंग मानतावां
 
म्हारै मन मांय है
फगत एक सवाल-
‘मिनख’ कद बणसी ‘मिनख’
पण
कुण देवै म्हनैं पडूत्तर।