भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुलस्त्री / राजशेखर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गृहपति के घर आने पर
उठकर करना स्वागत
उससे बोलचाल में नम्र बनकर रहना
उसके चरणों में रखना दृष्टि
उसके लिए बिछाना आसन
और सेवा उसकी करना स्वयं

उसके सोने पर सोना
और छोड़ना शैया
उसके जगने से पहले
पहले के लोगों ने
पुत्रि कुलवधू के
सिद्धान्तधर्म यही कहे हैं।


मूल संस्कृत से अनुवाद : राधावल्लभ त्रिपाठी