भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुल्हाड़ियाँ / स्वप्निल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुदाल और हँसिये की तरह नहीं होता
कुल्हाड़ियों का दैनिक इस्तेमाल
वे कभी-कभार काम में लाई जाती हैं

जब मैं किसी के कन्धे पर कुल्हाड़ियों को
जाते हुए देखता हूँ तो लगता है कि
पेड़ों पर मुसीबत आने वाली है

कुल्हाड़ियाँ घर से बाहर निकल कर
कोई न कोई हादसा जरूर करती हैं
उनकी मार से नहीं बचती हैं डालियाँ
छोटे- मोटे पेड़-पौधे उन्हें देख कर
भय से कांपने लगते हैं

कुल्हाड़ियां सिर्फ पेड़ों को नहीं काटती
आदमी के कन्धों को लहुलुहान कर देती हैं
वे कंधे पर अंगोछे की जगह को काबिज
कर लेती हैं

कुल्हाड़ियों को कई हत्याओं में शामिल
पाया गया है
वे सिर्फ़ पेड़ों की नहीं आदमियों की हत्या
करती हैं