भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुल्हाड़ी / नीलेश रघुवंशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
चांद के पास तारे
तारों के पास आकाश
धरती के पास पेड़
पेड़ों पर फल-फूल
फल-फूल के पास आधी धरती आधा आकाश
आधी धरती आधे आकाश के बीच कुल्हाड़ी
कुल्हाड़ी के पास कंधा
मुस्कुराता है माली
उसके पास खाद हे किसी और को देने के लिए